अकेलापंत या एकांत, कौन भला!

By Manish Aggarwal

Contributing Author for Spark Igniting Minds


बदला-बदला सा जीवन,

बदले मन के मान,

बदला व्यक्तित्व-चरित्र यह,

बदले सब सम्मान!!


बदला सबका खानपान,

बदल रही दुकान,

न तन-मन की सोच कोई,

बस जीभा और अभिमान!!


रहन-सहन बदले सभी,

न दर्शन, न स्वाभिमान,

कल और कल के बीच में,

न सजगता, न वर्तमान!!


बदल रहे सिद्धांत सभी,

न भाषा, न विज्ञान,

धन ही धन पूजें सभी,

न शिक्षा, न विद्वान!!


हृदय जगत की दौड़ में,

मानव खुद से अनजान,

आकर्षण और प्रभाव में,

न धरती, न आसमान!!


(Featured Image by Gerd Altmann from Pixabay)

Think Switch Rethinking - Free image on Pixabay


About the Author

Manish Kumar Aggarwal, The Mindfood Chef, is a life coach and an author, He encourages and guides people towards realizing awareness via inner communication. He spreads the message of feeling gratitude, joy, and abundance.

Recent Posts

See All