हृदय न कोई आदि, न कोई अंत

By Manish Aggarwal

Contributing Author for Spark Igniting Minds


संतन का सनातन, सनातन के संत!

हृदय न कोई आदि, न कोई अंत!!


पंचतत्व त्रिगुण की काया!

निर्गुण-सगुण सब उसकी माया!!

सिमटे - फैले तब होए अनंत!

हृदय न कोई आदि, न कोई अंत!!


कर्म बीज, प्रारब्ध वृक्ष है!

बढता-घटता जग चंद्र पक्ष है!!

जीवन-मृत्यु यूँ रहें जीवंत!

हृदय न कोई आदि, न कोई अंत!!


मन में कल्पित, कल्पित में मन है!

कण-कण में जीवन,जीवन कण-कण है!!

निमिष-निमिष में बनती बिगड़ती, सृष्टि सारी चक्षुपर्यंत!

हृदय न कोई आदि, न कोई अंत!!


(Featured Image by Nat Aggiato from Pixabay)

Hearts Love Drawing - Free vector graphic on Pixabay


About the Author

Manish Kumar Aggarwal, The Mindfood Chef, is a life coach and an author, He encourages and guides people towards realizing awareness via inner communication. He spreads the message of feeling gratitude, joy, and abundance.

Recent Posts

See All

Leave your comments here: